November 13, 2018

यदि आप चाहती हैं नॉर्मल डिलीवरी तो करें यह उपाय

for gharelu paramarsh

यदि आप चाहती हैं नॉर्मल डिलीवरी तो करें यह उपाय

         आजकल के बदलते हुए लाइफ़स्टाइल के कारण प्रेग्नेंट महिला के लिए बच्चे को नॉर्मल डिलीवरी से जन्म देना मुश्किल भरा काम हो गया है | गर्भावस्था के दौरान हर महिला को यही चिंता होती है कि उसका बच्चा स्वस्थ है या नहीं और उसकी नॉर्मल डिलीवरी होगी या नहीं | ऐसी बहुत सी बातें गर्भवती  महिला के दिमाग में चलती रहती हैं | लगभग हर औरत चाहती है कि उसकी डिलीवरी नार्मल हो लेकिन कई बार परिस्थितियों के कारण नॉर्मल डिलीवरी की जगह ऑपरेशन ही करना पड़ता है | आज इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताएंगे कि वह कौन से आसान उपाय है जिससे कि आप की डिलीवरी नॉर्मल हो सकती है |

        नॉर्मल डिलीवरी का सबसे पहला फायदा यह होता है की मां के स्वास्थ्य को रिकवर होने में ज्यादा समय नहीं लगता है वहीं ऑपरेशन से होने वाली डिलीवरी में मां को काफी समय तक ध्यान रखना पड़ता है और उसे रिकवर होने में अभी काफी समय लग जाता है | यदि आप गर्भवती हैं या आपके जान पहचान में ऐसा कोई है तो इन उपायों को अपनाकर आप नॉर्मल डिलीवरी के चांसेस को बढ़ा सकती है हैं |

इसे भी पढ़ें:-  गर्भावस्था में यह गलतियां कभी ना करें,Pregnency Prication

नॉर्मल डिलीवरी के लिए उपाय-

  • महिला को जैसे ही पता चलता है कि वह गर्भवती है तो उसे तुरंत ही किसी लेडी डॉक्टर से मिलकर जांच करवाना चाहिए और गर्भावस्था के दौरान नियमित रूप से डॉक्टर के संपर्क में बने रहना चाहिए | डिलीवरी के दौरान महिलाओं को काफी पीड़ा होती है इसलिए गर्भवती महिला को चाहिए कि वह अपने स्वास्थ्य का पूरा ख्याल रखें ताकि उसे नॉर्मल डिलीवरी हो तो तकलीफ कम हो |
  • मां के स्वास्थ्य पर ही बच्चे का स्वास्थ्य निर्भर करता है इसलिए जन्म लेने वाला बच्चा तभी स्वस्थ होगा जब मैं स्वस्थ होगी गर्भावस्था के समय यदि आपको कोई भी रोग के लक्षण दिखाई देते हैं तो डॉक्टर की सलाह से जल्द से जल्द इलाज कराएं |
  • प्रसव पीड़ा होने के समय शरीर में खून की कमी नहीं होना चाहिए इसलिए नियमित रूप से ब्लड टेस्ट करवाएं और अपने खान-पान का विशेष ध्यान रखें |
  • गर्भवती महिला को नार्मल डिलीवरी के लिए शारीरिक रूप से  स्वस्थ रहना चाहिए स्वयं को एक्टिव रखने के लिए चलना फिरना अच्छा उपाय है जिससे बच्चा पेट में हलचल करता है और उसे आराम भी मिलता है |
  • गर्भवती महिला की डाइट में विटामिन, कैल्शियम और प्रोटीन की मात्रा अधिक होना चाहिए | प्रेगनेंट लेडी को ताजा फल और हरी सब्जियां खाना चाहिए और साथ ही सही समय पर  भोजन करना भी बहुत जरूरी है |
  • गर्भावस्था के दौरान पानी की कमी ना हो इसके लिए प्रतिदिन 3 से 4 लीटर पानी  जरूर पिएं |

नॉर्मल डिलीवरी के लिए आयुर्वेदिक टिप्स-

  • नॉर्मल डिलीवरी के लिए यदि आप आयुर्वेदिक दवा लेना चाहते हैं तो अर्जुन रसायन, दशमूल, तुलसी और अश्वगंधा लेने से शरीर में ताकत आती है इससे बच्चे  की रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है और नॉर्मल डिलीवरी में भी मदद मिलेगी | कोई भी आयुर्वेदिक मेडिसिन लेने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह जरूर लें और दवा की सही मात्रा और सही तरीका जरूर  जाने |
  • गर्भावस्था के दौरान मेथी का सेवन करने से भी नॉर्मल डिलीवरी में काफी फायदा मिलता है |
  • नौवें महीने की शुरुआत में सवा के बीज सेक लें और पानी में उबालें और पानी में गुड़ मिला दें इस पानी के सेवन से डिलीवरी नॉर्मल तरीके से होने में काफी मदद मिलती है |

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग और  व्यायाम-

         नॉर्मल डिलीवरी के लिए व्यायाम और योग करने से भी काफी फायदा मिलता है | योग और व्यायाम करने से पेट और कमर की मांसपेशियां मजबूत होती है और प्रेगनेंसी के दौरान व्यायाम करने से प्रसव के समय काफी लाभ मिलता है |

  • घर के काम करना, सुबह शाम की सैर करना, घर पर टहलना भी एक्सरसाइज का एक हिस्सा है |
  • गर्भावस्था के नौवें महीने में ज्यादा शारीरिक श्रम नहीं करना चाहिए कुछ देर टहलना ही काफी है |
  • किसी भी प्रकार के व्यायाम और योग को करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें और हो सके तो एक्सपर्ट की देखरेख में ही एक्सरसाइज करें |

नॉर्मल डिलीवरी के लिए योग आसन-

        बिना सर्जरी के सेहतमंद तरीके से बच्चे को जन्म देने के लिए आप घर पर कुछ योगासन भी कर सकती हैं यह आसन आप किसी योग गुरु की सलाह लेकर या उनके देखरेख में करें ताकि आप योग करने का सही तरीका जान सके |

  • वक्रासन
  • कोण आसन
  • सुख भद्रासन
  • सहज पश्चिमोत्तानासन

         व्यायाम और योग के अलावा आप घर पर ही कामकाज और मॉर्निंग वॉक जरूर करें |  नियमित रूप से शारीरिक व्यायाम करने से शरीर एक्टिव रहता है और मांस पेशिया मजबूत होती हैं जिससे कि नॉर्मल डिलीवरी के समय ज्यादा परेशानी नहीं होती है |

नॉर्मल डिलीवरी के टिप्स-

  • फास्ट फूड और जंक फूड के सेवन से बचें |
  • धूम्रपान और शराब के सेवन से दूर रहें यह प्रेगनेंट लेडीस और उसके होने वाले बच्चे के लिए हानिकारक है |
  • चाय कॉफी और कोल्ड ड्रिंक के सेवन से परहेज करें |
  • प्रेग्नेंट लेडीज को गर्भावस्था के दौरान 6 से 8 घंटे की नींद अवश्य लेनी चाहिए और समय-समय पर बॉडी की मालिश भी करनी चाहिए |
  • गर्भवती महिला को किसी भी तरीके से टेंशन लेना ठीक नहीं है क्योंकि यह उसके पेट में पल रहे बच्चे के लिए भी ठीक नहीं है इसलिए गर्भावस्था में खुद को तनाव से दूर रखें |
  • गर्भवती महिला को हमेशा याद रखना चाहिए कि गर्भावस्था के 9 माह पूरे होने के पश्चात एक बेबी को जन्म देने वाली है इसलिए गर्भवती महिला को चाहिए कि वह खुद को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखें |

           दोस्तों आपके द्वारा किया गया एक SHARE भी किसी के लिए अमृत के समान हो सकता है इसलिए यहां दिए गए SHARING Button पर क्लिक करके Facebook, Whatsup, Google plus, Twitter सभी जगह पर इस लेख को शेयर करें | हमारी मदद करें स्वदेशी व प्राचीन नुस्खों को आम लोगों तक पहुंचाने के लिए |

धन्यवाद,

इसे भी पढ़ें:-

नई माताओं के लिए आवश्यक एवं महत्वपूर्ण सुझाव

डिलीवरी के बाद प्रसूता के लिए खास आहार

गर्भावस्था के शुरुआती संकेत,Early Symptoms of Pregnancy in hindi

गर्भावस्था के दौरान भोजन कैसा होना चाहिए, What should be the food during pregnancy

सिजेरियन डिलीवरी के बाद रखें कुछ खास ख्याल, Some special care after cesarean delivery

प्रीमैच्योर डिलीवरी क्यों होती है और प्रीमैच्योर शिशु का ध्यान कैसे रखें?Premature delivery

गर्भावस्था में यह गलतियां कभी ना करें,Pregnency Prication

कमजोर और दुबले -पतले बच्चो को इन आहार के जरिये करे मोटा

जाने प्रेगनेंसी के दौरान सोने का सही तरीका,The right way to go to sleep during pregnancy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *