November 13, 2018

नवजात शिशु को नहलाने का तरीका,Tips for Bathing your new born baby

नवजात शिशु को नहलाने का तरीका-

        पहली बार बने माता पिता अक्सर अपने नवजात बच्चे को पहली बार नहलाने से डरते हैं | अधिकतर माता-पिता के मन में चिंता रहती है कि वह अपने नवजात शिशु को कैसे नहलाएं | तो आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताने जा रहे हैं नवजात शिशु को नहलाने का तरीका,Tips for Bathing your new born baby.

         वैसे भी साबुन लगे बच्चों को संभालना थोड़ा मुश्किल ही होता है क्योंकि उसके हाथ से फिसलने का डर बना रहता है | इसलिए बहुत से माता-पिता घर ही के किसी बड़े जानकार या कामवाली से शिशु को नहलाने के लिए कह देते हैं | मगर यदि आप प्रयास करें तो केवल कुछ बार शिशु को नहलाने के बाद आप काफी आत्मविश्वास महसूस करेंगे | एक बार जब आपको इसकी आदत हो जाएगी तो आपको लगेगा कि नहाने का समय बच्चे के साथ प्यार भरा संबंध बनाने का शानदार समय हैं |

         शिशु को मौसम के अनुसार हल्के गर्म पानी से प्रतिदिन स्नान कराना चाहिए | स्नान का समय मां तथा बच्चे दोनों के लिए एक दूसरे को प्यार का समय होता है | स्नान ऐसे स्थान पर कराना चाहिए  जहां पर सीधी हवा ना आए जैसे बंद कमरा या एक कोने में छोटे शिशु को स्नान कराने के लिए आजकल काफी बड़े प्लास्टिक के टब आते हैं | एक बड़ा टब, ठंडा तथा गर्म पानी की बाल्टी, एक जग, दो मुलायम तौलिया, बेबी साबुन, शैंपू, बेबी पाउडर, क्रीम, बेबी तेल तथा स्वच्छ कपड़े इत्यादि स्नान करने से पहले ही रख लेना चाहिए |

शिशु के नहाने का टब-

       शिशु को किसी भी परात इनेमल के टब अथवा नहाने की जोड़ी कढ़ाईनुमा बाल्टी में ही  नहलाया जा सकता है |आप चाहे तो उसको चौकी पर ही जहां आपने उसे नहलाया हो कपड़े पहना सकती हैं | इस कार्य में कार्डबोर्ड की मजबूत पाये वाली चौकी अच्छा काम दे सकती है

        इनके अतिरिक्त सेफ्टी पिन, थर्मामीटर, डॉक्टरी काम में आने वाली मेडिकेटेड रूई, विटामिन ड्रॉप्स भी अपने पास तैयार रखें | शिशु के मल वाले कपड़े धोने के लिए एक बाल्टी का होना भी आवश्यक है यह इतनी बड़ी होनी चाहिए कि इसमें कम से कम 15 लीटर पानी भरा जा सके |

शिशु को नहलाने का तरीका-

  • स्नान के समय प्रयोग आने वाली चीजों को एकत्र करके टब में पानी भर लीजिए | पानी हल्का गर्म होना चाहिए इसे अपनी कोहनी लगाकर महसूस कर लेना चाहिए |
  • शिशु को चोलिए में लपेटकर सबसे पहले मुंह धो कर कान आंखें साफ करके पोंछ  लेना चाहिए |
  • इसके बाद शिशु को पेट के बल लिटा कर सिर अच्छी प्रकार शैंपू से धोना चाहिए | आंखों में पानी व साबुन जाने से बचाने के लिए पानी से बाल माथे से पीछे की ओर धोने चाहिए |
  • इसके बाद नेपी की जगह तथा शिशु के प्रजनन अंगों को साबुन से साफ करना चाहिए |
  • इसके बाद शिशु को टब में सिर को सहारा देते हुए लिटा देना चाहिए तथा अच्छी प्रकार गर्दन जांघ तथा नाभि आदि साफ करना चाहिए | इस समय यह ध्यान रखना चाहिए कि पानी ठंडा ना हो गया हो |
  • स्नान के बाद स्वच्छ तौलिया से हल्के-हल्के  पोंछकर तथा उसे स्वच्छ नेपी तथा कपड़े पहनाने चाहिए |स्नान के बाद शिशु के शरीर पर बेबी तेल की हल्की मालिश भी कर देनी चाहिए |
  • स्नान के समय यह ध्यान रखना चाहिए कि शिशु को ठंड न लग जाए |

 

यदि पोस्ट में दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो इसे LIKE करें और अपने सभी परिजनों और मित्रों के साथ इसे SHARE करें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *