October 22, 2018

जाने प्रेगनेंसी के दौरान सोने का सही तरीका,The right way to go to sleep during pregnancy

प्रेगनेंसी, for ghareluparamarsh.

जाने प्रेगनेंसी के दौरान सोने का सही तरीका,The right way to go to sleep during pregnancy

            गर्भावस्था या प्रेगनेंसी आपके लिए खुशियां लेकर आती है | आपके प्रेग्नेंट होने का पता चलते ही आपके पति और आपके परिवार के सभी सदस्य आपके आने वाले नन्हे-मुन्ने का बेसब्री से इंतजार करते हैं  हर कोई उनके परिवार में आने वाले बच्चे के लिए अपने सपने संजो कर रखता है | लेकिन इन खुशियों के साथ प्रेगनेंसी अपने साथ कई प्रकार के चैलेंज भी लेकर आती है | ऐसा ही एक चैलेंज है कि नींद कैसे पूरी की जाए ताकि आप प्रेग्नेंसी के दौरान हमेशा स्वस्थ बनी रहे | यह तो सभी जानते हैं कि  पर्याप्त नींद लेने से दिमाग को सुकून मिलता है और शरीर को भी आराम मिलता है | प्रेगनेंसी के दौरान महिला के शरीर में कई प्रकार के परिवर्तन होते हैं जिस कारण से उसे थकान और उलझन महसूस होती है अगर ऐसे में उसे सही नींद मिल जाए तो शरीर पर प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले परिवर्तनों का बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा और गर्भ में पल रहे बच्चे का विकास भी सही ढंग से हो पाएगा |

इसे भी पढ़ें:- नई माताओं के लिए आवश्यक एवं महत्वपूर्ण सुझाव

आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने जा रहे हैं कि गर्भावस्था में कैसे सोए जिससे कि आप और आपका बच्चा  दोनों चैन की नींद ले सकें और दोनों का स्वास्थ्य हमेशा ठीक रहे |

  • बायी करवट सोना चाहिए :-

प्रेगनेंसी के दौरान दाई  हाथ की तरफ सोना, पीठ के बल सोना और उल्टा सोने से काफी बेहतर होता है लेकिन यह उतना ज्यादा सुरक्षित नहीं है जितना कि बायी तरफ सोने से है इसका कारण यह है कि आप के दाहिने हाथ पर सोते हुए आपके जिगर पर दबाव बन सकता है जो कि ज्यादातर डॉक्टर आपको बताते रहते हैं अगर फिर भी आपका बायी तरफ सोने से थकान या दबाव हो गया हो तो आप थोड़े समय के लिए दाई करवट ले सकते हैं

  • पीठ के बल नहीं सोना चाहिए :-

गर्भावस्था के दौरान अंतिम दिनों में गर्भ का साइज बढ़ जाता है इस कारण से पीठ के बल लेटने से गर्भवती महिला को कई प्रकार की शारीरिक समस्याएं होती है क्योंकि पीठ के बल लेटने पर गर्भाशय का सारा वजन  और वह शीरा जो आपके शरीर के निचले हिस्से से रक्त को आपके ह्रदय तक पहुंचाती है, पर पड़ता है जिससे पीठ दर्द,अपच, बवासीर, सांस लेने में तकलीफ और रक्त परिसंचरण में कठिनाई होती है इसके अलावा कब्ज और पैरो में ऐठन भी आप की तकलीफ को बढ़ाने लगती है

  • तकिये का इस्तेमाल :-

गर्भावस्था के दौरान आप एक तरफ मुंह करके और अपने घुटनों को मोड़कर सो सकती हैं | इस समय गर्भाशय के बढ़े हुए साइज की वजह से  लेटने में काफी असहजता महसूस होती है इसको कम करने के लिए आप अपनी कमर के पीछे या पेट के नीचे और चाहे तो आप अपनी दोनों टांगों के बीच में तकिए का इस्तेमाल कर सकती है क्योंकि हर महिला की शारीरिक क्षमता अलग-अलग होती है | इसलिए आपको जिस तरह से आराम मिले आप इस तरह से तकिए का उपयोग कर सकती हैं |

  • कमर के बल नहीं सोना चाहिए :-

गर्भावस्था में सोते समय कमर के बल पूरा जोर लगा कर नहीं सोना चाहिए | प्रेग्नेंट महिला को किसी एक और हल्की सी करवट लेकर ही सोना चाहिए इससे उसे किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं होगी |

             दोस्तों आपके द्वारा किया गया एक SHARE भी किसी के लिए अमृत के समान हो सकता है इसलिए यहां दिए गए SHARING Button पर क्लिक करके Facebook, Whatsup, Google plus, Twitter सभी जगह पर इस लेख को शेयर करें | हमारी मदद करें स्वदेशी व प्राचीन नुस्खों को आम लोगों तक पहुंचाने के लिए |

धन्यवाद,

इसे भी पढ़ें:-

नई माताओं के लिए आवश्यक एवं महत्वपूर्ण सुझाव

डिलीवरी के बाद प्रसूता के लिए खास आहार

गर्भावस्था के शुरुआती संकेत,Early Symptoms of Pregnancy in hindi

गर्भावस्था के दौरान भोजन कैसा होना चाहिए, What should be the food during pregnancy

सिजेरियन डिलीवरी के बाद रखें कुछ खास ख्याल, Some special care after cesarean delivery

प्रीमैच्योर डिलीवरी क्यों होती हैऔर प्रीमैच्योर शिशु का ध्यान कैसे रखें?Premature delivery

गर्भावस्था में यह गलतियां कभी ना करें,Pregnency Prication

कमजोर और दुबले -पतले बच्चो को इन आहार के जरिये करे मोटा

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *