November 13, 2018

कैंसर की शुरुआत के 10 प्रमुख बड़े लक्षण

कैंसर की शुरुआत के प्रमुख बड़े लक्षण

कैंसर की शुरुआत के 10 प्रमुख बड़े लक्षण

     एक शोध में पता चला है कि अगर लोग जीवनशैली को ठीक रखें तो कैंसर के 40% मामलों को रोका जा सकता है | इस शोध के अनुसार कई मामलों में कैंसर होने की वजह खराब जीवन शैली है और अव्यवस्थित जीवन शैली से तात्पर्य धूम्रपान, शराब पीना, स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाले भोजन और अधिक वजन से है | आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको ‘कैंसर की शुरुआत के 10 प्रमुख बड़े लक्षण ‘के बारे में बताएंगे जिनका ध्यान रखते हुए आप कैंसर जैसी घातक बीमारी के प्रभाव से बच सकते हैं |

     अव्यवस्थित और खराब जीवन शैली का नतीजा होता है कैंसर जैसी घातक बीमारी | कैंसर एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है जिसकी चपेट में आने से बहुत सारे लोगों की जान जा चुकी है | आज दुनिया में सबसे ज्यादा मरीज इसकी चपेट में है | अनियमित दिनचर्या होने का प्रभाव शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर पड़ता है शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने के कारण कई प्रकार के रोग शुरू होने लगते हैं | पोषक आहार की कमी और प्रदूषण के कारण कैंसर के ट्यूमर बढ़ते हैं | कैंसर के 90 से 95% मामले वातावरण और अव्यवस्थित जीवन शैली के कारण होते हैं | कैंसर के प्रति जागरूकता जगाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हर साल 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया ताकि लोग इस खतरनाक बीमारी से खुद की रक्षा करें और कोई दूसरा व्यक्ति इस बीमारी से प्रभावित ना हो |

     कैंसर जैसी बीमारी के बारे में कम पता होने के कारण से ही हम इस बीमारी को सही स्टेज पर नहीं पहचान पाते हैं जिस कारण मरीज का बच पाना मुश्किल हो जाता है | आज हम आपको कैंसर के उन्हीं लक्षणों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन पर ध्यान दिए जाने की जरूरत है |कैंसर की शुरुआत के 10 प्रमुख बड़े लक्षण

आज इस पोस्ट के माध्यम से हम उन प्रमुख लक्षणों के बारे में बताएंगे जो कि कैंसर जैसी घातक बीमारी का कारण हो सकते हैं-

शरीर में गांठों का होना-

शरीर के किसी भी हिस्से पर अगर गांठ महसूस हो तो उस पर विशेष ध्यान दें | हालांकि हर गांठ  ख़तरनाक नहीं होती है | स्तन में गांठ होना स्तन कैंसर की तरफ इशारा करता है इसे डॉक्टर को जरूर दिखाएं |

पेशाब और शौच के समय खून आना-

यदि पेशाब और शौच के समय खून आए तो यह ब्लाडर यह किडनी का कैंसर हो सकता है लेकिन यह केवल इन्फेक्शन भी हो सकता है | इसलिए डॉक्टर की सलाह जरूर लें |

निगलने में तकलीफ होना

     यदि आपको कुछ भी खाते या पीते समय निगलने में तकलीफ होती है तो यह गले के कैंसर का संकेत हो सकता है | गले में तकलीफ होने पर लोग अक्सर नरम खाना, खाना शुरु कर देते हैं जो कि सही नहीं है तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए |

पाचन क्रिया में दिक्कत होना-

     यदि आप को भोजन पचाने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है तो तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए |

दर्द बना रहना-

     हर तरह का दर्द कैंसर  की निशानी नहीं होता है किंतु यदि दर्द लगातार बना रहे तो यह कैंसर का लक्षण हो सकता है सर में दर्द हमेशा बने रहने का मतलब यह नहीं है कि यह ब्रेन कैंसर की निशानी है किंतु आपको डॉक्टर से संपर्क जरुर करना चाहिए |

यदि घाव नहीं भर रहा है-

    यदि जख्म या घाव 3 हफ्ते के बाद भी नहीं भरता है तो डॉक्टर को दिखाना बहुत ही ज्यादा जरूरी है |

यदि पीरियड्स न रुक रहे हो-

   यदि माहवारी के बाद भी  ब्लडिंग नहीं रुक रही है तो महिलाओं को ध्यान देने की जरूरत है | यह सर्वाइकल कैंसर की शुरुआत हो सकती है |

गले में कफ या खींच-खींच होना-

   अगर गले में काफी लंबे समय तक कफ या खराश की समस्या बनी रहती है और खांसने पर भी खून आ रहा है तो सावधानी बरतने की जरूरत है | जरूरी नहीं है कि यह कैंसर ही हो लेकिन ज्यादा देर तक कफ बना रहे तो सावधानी बरतें और डॉक्टरी सलाह लें |

तिल जैसा निशान होना-

    तिल जैसा निशान हमेशा  तिल ही नहीं होता है ऐसे किसी भी निशान के लिए त्वचा पर उभरने पर डॉक्टर को जरूर दिखाइए | यह स्किन कैंसर की शुरूआत हो सकती है |

वजन का लगातार घटना-

     वयस्कों का वजन वैसे तो आसानी से नहीं घटता है |लेकिन अगर आप बिना किसी कोशिश के लगातार दुबले होते जा रहे हैं तो जरूर ध्यान देने की बात है | यह कैंसर का संकेत हो सकता है |”कैंसर की शुरुआत के 10 प्रमुख बड़े लक्षण”

 

   यदि पोस्ट में दी गई जानकारी आपके लिए फायदेमंद हो तो इस पोस्ट को LIKE जरुर करें | और अपने सभी मित्रों और परिचितों के साथ इसे SHARE करें |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *